बुधवार, 20 जून 2007

करणीमाता रा दर्शण

भाई लोगां ने म्‍हारा घणे मान सूं राम राम
बोळा दिना होग्‍या किं लिखण रो मन बणाउ हूं पण बात नाके नी आ री है तो आज सोचियो के क्‍यूं कोनी आज भायां रे साथे बीकानेर जिले रे देशनोक करणीमाता रे मन्दिर रा दर्शण कर लिया जावे, इण बात ने सोच अर म्‍हे आज आप लोगां रे वास्‍ते करणीमाता रे दर्शणां री तैयारी करी हां आशा है आपरो हेत म्‍हारे हिवडे आवेला तो चालो करणीमाता रा दर्शण करबा चालां।
करणीमाता रो मन्दिर उन्‍दरा (काबा) वाळी माता रे नाम सूं पूरे संसार मं ओळखीजे, ओ मन्दिर बीकानेर सूं 30 किलोमीटर राष्‍ट्रीय राजमार्ग 89 पर नागौर जिले खानी जावण वाळी सडक पर है, बीकानेर सूं चालां जणा 30-35 मीनटां में माताजी रा मन्दिर आ सकां हां। माताजी रा मन्दिर रा मुख दरवाजा पर एकांखानी तो एक सिंघणी अर दूजीखानी सिंघ बैठा है दूर सूं देखा जणे इंया लागे है जियां संगमरमर का भाटा मं जींवता सिंघ'-सिंघणी है, अबार हिलसी, उठ जासी, दहाडसी। इणरे बाद अब आप देखो इण मन्दिर रो मुख दरवाजो बीयां तो ओ मन्दिर एक किले री सूरत मं बण्‍योडो है अर इणरे मुख दरवाजे री भींत पर संगमरमर की अत्‍ती जबरदस्‍त कारीगरी है के आप जितरा गौर सूं इण भींत ने देखो ला इण संगमरमर रे भाटे माथे करियोडी कारीगरी मं नई नई बेलां, जिनावर, फूल अर पत्तियां निजरां मं आसी। अ ब आप चालो माताजी रा मन्दिर रे मांय सीधा ही निज मन्दिर माताजी री मूर्ति रे सामने आप खड्या हो माताजी रो निज मन्दिर बीना गारो लगायोडा पहाडी भाटां रो बणियोडो है ए भाटा एक माथे एक इयां ही चिणियोडा है बिण मं माताजी री मूर्ति बिराजमान है चोफेर काबा (चुहे) निजर आसी घणाई काबा दूध पी रया हे अर घणाई एक दूसरे रे लारीने भागता निजर आ जासी अरे रे डरो मति ए काबा मिनखां र माथे कोनी चढे इण काबां ने घणाई भगत आवे जका लाडू चढावे, दूध चढावे इण मन्दिर मायं इतरा काबा है के संसार रा बडा बडा विज्ञानी आ देखण ताईं आवे के इतरा काबां रे होतां इण मन्दिर मं या इण गांव मं प्लेग जेडी बीमारी क्‍यूं कोनी होवे है। अ ब आओ फेरी मं चालां चारां खानी काबा ई काबा निजर आवे माताजी रे फेरी देणी है तो थोडा आराम सूं आपरा पगां ने जमीन पर रगडता चालो कठई कोई काबो पगां मं आयगो तो चांदी रो काबो चढावणो पड जाव गो। इण काबां मं एक दो धोळा काबा भी है पण बे काबा तकदीरां वाळा भगतां ने ही निजर आवे जिण भगत ने धोळा काबा रा दर्शण हो जावे, आ कैबत है क बिण भगत ने माताजी रो आर्शिवाद मिल जावे अर माताजी रा मन्दिर रे गुम्‍बद माथे चील दिख जावे तो जाणजो थे कोई गढ जीतण री तैयारी मं जा रया हो तो थांरी जीत कोई टाळ नी सके। अ ब आपां मन्दिर सूं बारला चोक मं आया हां तो सामां डावा हाथ खानी माताजी रो रसोवडो इण रसोवडा मं दो कडाव पड्या है जकां मायं एक मं तो 40 मण सीरो अर एक मं 60 मण सीरो ए क साथ रांध सकां इतरा बडा कडाव है। इण कडावां रो काम तो साल मं एक आध वार ही पड जद कोई सेठ-साउकार माताजी री परसादी करे। इण प्रकार सूं आप करणीमाताजी रा दर्शण कर न बा र आया तो आपरी बस तैयार खडी आप न उडीक रई है। बोलो करणीमाता री जै। ल्‍यो अबे आप माताजी रा साक्षत् दर्शणां रो लाभ उठावो अठे आपरे कम्‍पुटर रो उंदरा रो डावो हाथ हिलाओ अर अंगरेजी भाषा मं लाम्‍बी जाणकारी भी आप नं अठेई मिल जासी दर्शण करो।

4 टिप्‍पणियां:

Sagar Chand Nahar ने कहा…

मुकेश जी
मारा गाँव देवगढ़ (जिला राजसमन्द) मां य करणी माताजी रो घणो मोटो मिंदर है अने हर साल करणी माता जी रा मंदिर रा प्रांगण मां दसहरा रा टाइम पर घणौ मोटो पशु मेळो भरे है। अने रावण दहन रा दिन तो हजारों लोग बेळा हुवे है।
बीकानेर रा बारां मां घणो सुण्यो थो पर आज राजस्थानी मां पढ़वा मां मजौ आग्यो बीरा।

irfan ने कहा…

भाई, मैं देशनोक जाकर करनी माता के दर्शन कर आया हूं.अब छः साल होने को आये.आधा दिन मैं वहीं रहा था, मंदिर परिसर में.धन्यवाद.

बेनामी ने कहा…

करणी माताजी jay
धनारामजी देवासी ( समेलानी परिवार )
सरनाउ मैं आपका देवासी समाज सवागत करता है

बेनामी ने कहा…

करणी माताजी ki jay dewasi samaj धनारामजी देवासी ( समेलानी परिवार )
सरनाउ मैं आपका देवासी समाज सवागत करता है

एक करोड़ एक लाख की घोषणा
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने देवासी समाज के शिक्षा संस्थान व छात्रावास के लिए एक करोड़ एक लाख रुपए उपलब्ध कराने की घोषणा की। मुख्यमंत्री के राज्य सरकार की ओर से तीस लाख रुपए देने का ऐलान करने पर नगर सुधार न्यास अध्यक्ष राजेंद्र गहलोत ने पच्चीस लाख, सांसद जसवंतसिंह,विधायक मोहन मेघवाल व संसदीय सचिव जोगाराम पटेल ने अपने कोष से दस-दस लाख रुपए,राजस्व मंत्री रामनारायण डूडी,विधायक सूर्यकांता व्यास ने विधायक कोटे व जिला प्रमुख ने जिला परिषद से पांच-पांच लाख रुपए तथा समाजसेवी धनारामजी देवासी ने एक लाख रुपए देने की घोषणा की।